Latest News

Monday, July 6, 2020

माता कुष्मांडा के चरणों से जल टपकता है और ऐसी मान्यता है कि जिस व्यक्ति की आंख की रोशनी कम हो वह यहां आकर जल आंख पर डाले तो उसकी रोशनी वापस आ जाती है



स्पेशल स्टोरी - शिवम् सविता

कानपुर। शहर से 40 किमी की दूरी पर स्थित एक एतिहासिक मां दुर्गा के चौथे स्वरुप माता कुष्मांडा देवी का मंदिर है। यह मंदिर कानपुर सागर हाईवे पर पड़ने वाली तहसील घाटमपुर में स्थित है। नवरात्र पर्व पर मां दुर्गा के चौथे स्वरूप मां कूष्मांडा की सारी दुनिया में पूजा होती है पर देश में उनका इकलौता मंदिर घाटमपुर में है। इतिहासकारों के अनुसार मां कूष्मांडा का यह मंदिर मराठा शैली में बना है और इसमें स्थापित मूर्तियां संभवत: दूसरी से दसवीं शताब्दी के मध्य की हैं। नवरात्र पर्व के अवसर पर मां कुष्मांडा देवी के दर्शन के लिए देश-विदेश से भक्त आते हैं। माता कुष्मांडा के चरणों से जल टपकता है और ऐसी मान्यता है कि जिस व्यक्ति की आंख की रोशनी कम हो या बिल्कुल न हो तो वह यहां आकर नवरात्र पर आकर जल आंख पर डाले तो उसकी रोशनी वापस आ जाती है। इसका प्रमाण भी कई देवी भक्तों ने दिया जिनकी आंख की गई रोशनी वापस आई है।

पिंडी के रुप में लेटी मां कुष्मांडा

1000 वर्ष पुराना मंदिर हैl मां कुष्मांडा देवी इस प्राचीन व भव्य मंदिर में लेटी हुई मुद्रा में है। यहां मां कुष्मांडा एक पिंडी के स्वरूप में लेटी हैं, जिससे लगातर पानी रिसता रहता है। आज तक वैज्ञानिक भी इस रहस्य का पता नहीं लगा पाए कि ये जल कहां से आता है। माता के मंदिर कोई पंड़ित पूजा नहीं करवाता। यहां नवरात्र हो या अन्य दिन सिर्फ माली ही पूजा- अर्चना करते हैं। मनोकामना पूर्ण होने पर भक्त यहां माता को चुनरी, ध्वजा, नारियल और घंटा चढ़ाने के साथ ही भीगे चने अर्पण करते हैं।


कुड़हा नामक व्यक्ति को दिया था दर्शन

मंदिर के पुजारी और माली ने बताया यहां पहले घना जंगल था। इसी गांव का कुड़हा नामक ग्वाला गाएं चराने जाता था। शाम के समय जब वह दूध निकालने जाता तो गाय एक बूंद भी दूध नहीं देती। ग्वाले ने इस बात की निगरानी की। रात में ग्वाले को मां ने स्वप्न में दर्शन दिए। वह गाय को लेकर गया तभी एक स्थान पर गाय के आंचल से दूध की धारा निकलने लगी। ग्वाले ने उस स्थान की खुदवाई करवाई। वहां मां कूष्मांडा देवी की पिंडी निकली। गांव वालों ने उसी स्थान पर मां की पिंडी स्थापित कर दी अौर उसमें से निकलने वाले जल को  प्रसाद स्वरूप ग्रहण करने लगे। चरवाहे कुड़हा के नाम पर मां कुष्मांडा का एक नाम कुड़हा देवी भी है। स्थानीय लोग मां को इसी नाम से पुकारते हैं। 

चौथा अंश गिरा था घाटमपुर में


माता कुष्मांडा की कहानी शिव महापुराण के अनुसार, भगवान शंकर की पत्नी सती के मायके में उनके पिता राजा दक्ष ने एक यज्ञ का आयोजन किया था। इसमें सभी देवी देवताओं को आमंत्रित किया गया था। लेकिन शंकर भगवान को निमंत्रण नहीं दिया गया था। माता सती भगवान शंकर की मर्जी के खिलाफ उस यज्ञ में शामिल हो गईं। माता सती के पिता ने भगवान शंकर को भला-बुरा कहा था, जिससे अक्रोसित होकर माता सती ने यज्ञ में कूद कर अपने प्राणों की आहुति दे दी। माता सती के अलग-अलग स्थानों में नौ अंश गिरे थे। माना जाता है कि चौथा अंश घाटमपुर में गिरा था। तब से ही यहां माता कुष्मांडा विराजमान हैं।

No comments:

Post a Comment

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Created By :- KT Vision