Latest News

Sunday, January 26, 2020

सरसौल : युवाओं ने धूमधाम से मनाया 71वें गणतंत्र दिवस का जश्न।


71 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर जगह-जगह  ध्वजारोहण व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। सरसौल के अंतर्गत आने वाले ग्राम पुरवामीर में प्रधानपति जितेंद सिंह गौतम ने ध्वजारोहण किया तो वही नौगवां गौतम जूनियर हाईस्कूल में ग्राम प्रधान धीरेंद्र सिंह दादा ने ध्वजारोहण किया। ग्राम करबिगवां में स्थित दृगपाल सिंह स्मारक इंटर कॉलेज में प्रबन्धक सुरेंद्र सिंह ने ध्वजारोहण किया व बच्चो ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। तो वही एक ऐसा भी गांव है जहां के नवयुवाओं में भारतीय सेना में जाने का इस तरह से जुनून सवार है कि वह ना तो दिन देखते हैं ना तो रात ना धूप देखते हैं ना बरसात लगातार ग्राउंड में ग्रुप बनाकर सेना भर्ती की तैयारी करते हैं। महोली गांव में लगभग दो सौ से अधिक नवयुवा फौजी हैं ग्रामीणों ने बताया कि महोली गांव के 90% बच्चे इंटर करने के बाद फौज की तैयारी में लग जाते हैं वहीं गांव के नवयुवाओं से हुई बातचीत में बताया देश प्रेम में पूरे गांव के नए युवा एकजुट होकर गांव का नाम रोशन करते हैं। महोली गांव के कई फौजी बॉर्डर में तैनात हैं जो छुट्टियों में आकर गांव के अन्य बच्चों को सेना भर्ती की तैयारियों के बारे में विस्तृत जानकारी देते हैं वा उनकी तैयारियां करवाते हैं। महोली गांव के बाहर जंगल के बीचो बीच गांव के ही नवयुवाओ प्रभात सिंह,राहुल सिंह,विश्वजीत सिंह, आदि लोगों ने ग्राउंड बनाकर सेना भर्ती की तैयारी के लिए जबरदस्त तरीके अपनाए। इस गांव में 200 से अधिक युवा फौजी है जबकि दो से ढाई सौ नौ युवा रोजाना इसी ग्राउंड में भर्ती की तैयारी करते हैं। महोली गांव के नवयुवाओं ने देशभक्ति की मिसाल पेश करते हुए 71 में गणतंत्र दिवस के अवसर पर दौड़ के मैदान में गणतंत्र दिवस का पर्व मनाने के लिए विशेष तैयारियां की इसके लिए सभी ने रंगोली आदि बनाकर शहीदों को याद किया व देशभक्ति गानों में जमकर थिरके। सर्वप्रथम भारतीय सेना में तैनात आदर्श सविता ने झंडारोहण किया तत्पश्चात राष्ट्रगान व प्रभात फेरी भी निकाली गई। नर्वल तहसील क्षेत्र में इस तरह से यह युवाओं का पहला ऐसा कार्यक्रम है जिससे लोगों में देश के प्रति प्रेम जागृत होता है। राजनीति से दूर इस गांव के नवयुवक सदैव भारतीय सेना में जाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं व प्रतिवर्ष इस गांव से 10 से 15 लड़के इंडियन आर्मी में भर्ती होते हैं इसके साथ ही ग्रामीणों ने बताया कि 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद इस गांव के युवा भारतीय सेना में जाने के लिए तैयारी में जुट जाते हैं। जिससे उन्हें समय रहते देश सेवा करने का मौका मिलता है व सफल होते हैं। ध्वजारोहण के बाद मैदान भारत माता की जयकारों से गूंज उठा।

No comments:

Post a Comment

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Created By :- KT Vision