Latest News

Monday, July 22, 2019

कुशीनगर: बिजली ध्वस्त, अधिकारी मस्त, ग्रामीण परेशान।



जब गांव में पहली बार बिजली विभाग के अधिकारियों ने कदम रखा तो ग्रामीणों की खुशी का ठिकाना नही रहा। लेकिन इनकी यह खुशी एक सप्ताह बीतते ही चकनाचूर हो गयी। अब इनकी न कार्यदायी संस्था सुन रही और न ही बिजली विभाग। फिर ग्रामीणों को अपने भाग्य पर रोना आ रहा। इतना ही नही बीते चार माह पूर्व तमकुहीराज तहसील के विकास खण्ड के गांव दशाहवा के टोला धोबी घाटवा और पलाट टोला में आजादी के बाद प्रधानमंत्री के लोकप्रिय हर घर बिजली सौभाग्य योजना के तहत बिजली के आवश्यक वस्तुएं लेकर अधिकारी गांव पहुंचे तो ग्रामीणों की खुशी का ठिकाना नही रहा। गांव में बिजली लगे और उनके गांव को बिजली रूपी कलंक से मुक्ति मिले हर व्यक्ति ने पोल लगाने से लेकर बिजली का तार दौड़ाने तक निःस्वार्थ सहयोग किया। ग्रामीणों का उत्साह देख कम्पनी के कर्मचारियों एवं ठेकेदार ने उनका जमकर अपने काम में सहयोग भी लिया। एक महीने के अंदर गांव में बिजली पहुँच गयी। जब पहली बार गांव में ब
बिजली का वल्व जला तो गांव में उत्साह जैसा माहौल था। गांव का हर व्यक्ति प्रधानमंत्री से लेकर बिजली लगाने वालों का तारीफ करने से नही चूक रहा था। जैसे तैसे एक सप्ताह बीता गांव में लगा बिजली का नया ट्रांसफार्मर जल गया। अंधेरे से उजाले का सफर तय कर रहे ग्रामीणों को फिर अंधेरे में रहने को मजबूर होना पड़ा। ट्रांसफार्मर जलने के बाद ग्रामीण अपने क्षेत्र के बिजली विभाग के अवर अभियंता से लेकर एसडीओ तक दौड़े, वे अब अंधेरे से मुक्ति चाहते थे। उन्हें बाढ़ के कहर से बचाव में बिजली का रहना आवश्यक लग रहा था। लेकिन किसी ने नही सुनी। सभी ने यह कहकर उन्हें वापस कर दिया कि जिसनें बिजली का काम किया है। वहीं इसे ठीक करेगा। फिर ग्रामीण पडरौना स्थित जंक्शन कम्पनी के कार्यालय गये, लेकिन वहां यह कहकर उन्हें वापस कर दिया कि हमें जितना करना था, उतना कर दिया। अशिक्षित और गरीब मजदूर वापस गांव आ गये। उन्हें अब अपने भाग्य पर रोना आ रहा है। ग्रामीणों की बड़ी समस्या यह है कि आजादी के बाद गांव में बिजली आयी, उत्साह से सबने कनेक्शन भी लिया। बिजली चली भी गयी और जुर्बना क रूप में बिजली का बिल भरने को बाध्य होना पड़ रहा है। चारों तरफ भागदौड़ कर फरियाद करने के बाद जब ग्रामीणों को कहीं से न्याय नही मिला।

रिपोर्ट- आर के विश्वकर्मा

नेशनल आवाज़ कुशीनगर

No comments:

Post a Comment

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Created By :- KT Vision