Latest News

Thursday, July 18, 2019

कुशीनगर: संभावित बाढ़ आपदा से बचाव एवं राहत के लिये रकबा जंगली पट्टी में हुआ मॉक ड्रिल।


जिला प्रशासन द्वारा बाढ़ से निपटने के लिए व बाढ़ में फसे नागरिकों को तुरन्त राहत मुहैया कराके उन्हे सुरक्षित स्थानों पर कैसे पहुंचाया जाय एवं बाढ़ के बाद आने वाली समस्याओं के सम्बन्ध में आज तमकुहीराज तहसील अंतर्गत रकबा जंगली पट्टी  में पूर्वान्ह 9 बजे से मध्यान्ह 1 बजे तक माकड्रिल का आयोजन किया गया। जिलाधिकारी डॉ0 अनिल कुमार सिंह व पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने संयुक्त रूप से सम्भावित बाढ़ के दृष्टिगत विभिन्न विभागों द्वारा के8 गई तैयारियों का जायजा लिया गया साथ ही पुलिस विभाग के जवानों(SDRF) ने आने वाली आपदा से निपटने हेतु एक्सरसाइज के माध्यम से आम जन को आवश्यक जानकारी दी गई तथा बाढ़ के समय प्रयोग किये जाने वाले विभिन्न उपकरणों से अवगत कराया। परन्तु जिलाधिकारी ने सभी सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि बाढ़ के दौरान राहत कार्य पहुंचाने के लिए किए जाने वाले माॅक ड्रिल में कही कुछ कमी दिखाई दे रही है उसे तत्काल पूर्ण कर लें, जिससे वास्तविक स्थिति आने पर राहत कार्य तत्काल प्रभाव से दिया जा सके। माॅक ड्रिल में कृत्रिम ढंग से डूबते हुए व्यक्ति की जान रेस्क्यू टीम द्वारा रेस्क्यू कर बचाने तथा प्राथमिक उपचार देकर तत्काल एम्बुलेन्स से अस्पताल पहुंचवाने का अभ्यास भी कराया गया। ए0डी0आर0एफ0 इंस्पेक्टर ने प्रजेन्टेशन के माध्यम से आपदा प्रबन्ध बिन्दुओं के बारे में जानकारी दी      जिलाधिकारी ने कहा कि अब प्रदेश सरकार के निर्देश पर बाढ़ जैसी आपदा आने पर पहले से तैयारी रखी जाएगी उसी क्रम में माॅकड्रिल किया जा रहा है तथा आपदा राहत कार्यों में लगने वाले अधिकारियों कर्मचारियों को प्रशिक्षण देकर पहले से ही ऐसी आपदाओं से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार कर किया जा रहा है। आपदा राहत से जुड़े सभी विभागों जैसे पुलिस, स्वास्थ्य, बाढ़ खण्ड, राजस्व विभाग, लोक निर्माण विभाग, आपूर्ति विभाग, पशुपालन सहित अन्य सभी सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों कोे निर्देश दिए हैं कि बाढ़ के दौरान वे सब अपने-अपने विभागों की जिम्मेदारियां ठीक से समझ लें ,ताकि तत्काल उन तैयारियों का धरातल पर अमल हो सके। जिलाधिकारी ने अधिशाषी अभियन्ता सिंचाई एवं अधिशाषी अभियन्ता बाढ़ को निर्देशित किया कि  कि पड़ोसी राष्ट्र नेपाल के अधिकारियों से सम्पर्क करके प्रतिदिन बैराज में बढ़े जल स्तर की जानकारी लेते रहें, ताकि आम जन मानस को एलर्ट करके उन्हे सुरक्षित किया जा सके। इसके साथ ही बाढ़ के दौरान बाढ़ में फसें लोगों को तुरन्त वंहा से निकालने के लिए सड़क मार्ग, मोटर बोट, और हेलीकाप्टर से ही निकाला जा सकता है इसके लिए भी सड़कों का उच्चीकरण एवं अन्य व्यवस्थाओं के लिए कार्य योजना भी बनाई जाए। जिलाधिकारी ने मौजूद अधिकारियों को निर्देश दिए कि आपदा राहत के मामलों में जिस भी विभाग की जो भी जिम्मेदारी हो वे उसे पूरी जिम्मेदारी केे साथ समय से पूर्ण कराएं नही तो कठोर कार्यवाही होगी। मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि वे बाढ़ प्रभावित सभी गांवों में शत-प्रतिशत टीकाकरण करवा दें। इसके लिए हर गांव, हर मजरे में स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर महिलाओं व बच्चों का टीकाकरण जल्द से जल्द करा दें, पशुओं का टीकाकरण भी अनिवार्य रूप से कराए जाएं। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने आम जन से सुरक्षा व्यवस्था से संबंधित सभी को भरोसा दिलाया कि आपदा के समय विल्कुल घबराएं नही पुलिस के जवान हर समय आप के साथ मौजूद रहेंगें। इसी क्रम में अपर जिलाधिकारी विंध्यवासिनी रॉय ,उप जिलाधिकारी तमकुही राज अरविंद कुमार,व आपदा विशेषज्ञ अरविंद कुमार राय ने भी आपदा के समय आने वाली कठिनाईयों के संबंध में विधिवत जानकारी दी गई। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट उप जिलाधिकारी कसया अभिषेक पाण्डेय, पडरौना रामकेश यादव, खडडा दिनेश कुमार, कप्तान गंज राशिद अनवर, हाटा प्रमोद कुमार, सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी गण व भारी संख्या में ग्रामवासी उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- आर के विश्वकर्मा

नेशनल आवाज़ कुशीनगर

No comments:

Post a Comment

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Created By :- KT Vision