Latest News

Friday, February 1, 2019

कानपुर : गंदगी से भरा शहर कैसे होगा ग्रीन सिटी का सपना पूरा।






नगर निगम के कर्मचारी शासन की आंखो में धूल झोंक रहे है। अधिकारी लगातार कानपुर को क्लीन कानपुर-ग्रीन कानपुर साबित करने पर तुले है लेकिन स्थिति बिलकुल विपरीत नजर दिखाई दे रही है अधिकारी लगातार लापरवाही बरत रहे है। कागजों पर सफाई अभियान की खानापूति कर स्वच्छता अभियान को पलीता लगाया जा रही है। कानपुर को भले ही स्मार्ट सिटी बनाने का संपना संजोया जा चुका है लेकिन यहां के अधिकारी यह नही चाहते और पूरे शहर में गंदगी की स्थिति किसी से छिपी नही है। शासन के निर्देशो और स्वच्छ भारत अभियान के बावजूद कानपुर में चारो तरफ गंदगी ही गंदगी फैली हुई है। न तो समय पर नियमित सफाई हो रही है, ना ही कूडा उठाया जा रहा है। किसी भी मोहल्ले, मुख्य रोड पर क्या सफाई अभियान चल रहा है यह आसानी से देखा जा सकता है। ओमपुरवा वार्ड 29 के जखेाडिया कम्पउन्ड स्थित दाल मिल के पास पूरी सडक कूडे के ढेर में विलुप्त हो चुकी है। लोगो की माने तो कभी इस समड पर वाहनो का आवागमन होता था लेकिन निगम कर्मचारियेां और खेत्रीय जनता की नासमझी का परिणाम यह कि सडक कूडे से पटी पडी है और यहां गंदे जानवरो का जमावड़ा लगा रहता है। वैसे भी शहर मे स्वाइन फ्लू फैल रहा है। क्षेत्रीय निवासी मो. हनीफ ने बताया कि आसपास के लोग आकर कूडा डाल जाते है और मना करने पर लडने को तैयार हो जाते है। लोगों का कहना है कि नगर निगम को कूडा डालने की हद निर्धारित करनी चाहिये वहीं सफाई कराकर नियमित समय पर कूडे का उठान होना जरूरी है। क्षेत्र में कूडे के डेढ और सफाई न होने के कारण लोगों में आक्रोश है

रिपोर्ट- लवकुश आर्या

नेशनल आवाज़ कानपुर

No comments:

Post a Comment

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Created By :- KT Vision