Latest News

Saturday, February 9, 2019

कानपुर : सीसामऊ नाला हुआ ओवरफ्लो, गंगा में गिरा सीवेज का गंदा पानी।




भैरोघाट से सीसामऊ नाले का डायवर्जन कोढ़ में खाज हो गया है। कभी डॉट का नाला टूट जाता है तो कभी ज्यादा पानी आने से सीवर लाइन ओवरफ्लो होकर गंगा में पानी गिरने लगता है। इसे लेकर जल निगम और छावनी बोर्ड के अधिकारी आमने-सामने है।

अधिकारियों का क्या कहना है : 
कानपुर के जल निगम अफसरों का कहना है कि छावनी क्षेत्र में करीब 5 किलो. तक गहरी सीवर लाइन नहीं पड़ी है, जिससे समस्या होती है। उधर छावनी के अधिकारी कहते हैं कि सीवर लाइन डालने का कार्य जल निगम का है हमारा नही। हालांकि अब जल निगम ने शासन से गहरी सीवर लाइन डालने के लिये 50 करोड़ रुपये मांगे है। इससे साफ है कि जब तक सीवर लाइन अधूरी रहेगी और छावनी क्षेत्र में पांच किलोमीटर लंबी लाइन नही डाली जायेगी तब तक सीसामऊ नाला ओवरफ्लो होकर गंगा में गिरता रहेगा पुराना नाला डॉट का बना है।

ब्रिटिश के समय का नाला : 
कहा जाता है कि यह नाला ब्रिटिश के समय का होने के कारण कई जगहों पर कमजोर है। पानी का फ्लो अधिक होने पर डॉट नाला टूट जाता है। जिसके कारण भैरोघाट पम्पिंग स्टेशन को बंद करना पड़ता है। पम्प बंद होते ही सीसामऊ नाला ओवरफ्लो होकर गंगा में गिरने लगता है। दो दिन पहले डॉट नाला जाजमऊ में क्षतिग्रस्त होने के बाद भैरोघाट सीवेज पम्पिंग स्टेशन को बंद कर दिया गया। जिससे सीसामऊ नाले ओवरफ्लो गंगा में गिरने लगा। डॉट नाला ठीक होने के बाद फिर से भैरोघाट पम्पिंग स्टेशन के पम्प को चलाया गया।

रिपोर्ट- मंगल सिंह तोमर

नेशनल आवाज़ कानपुर

No comments:

Post a Comment

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Created By :- KT Vision